आतंकी शहाबुद्दीन का कोरोना से मौत, अपहरण और हत्या मामले में काट रहा था उम्रक़ैद का सजा। नितीश कुमार ने जताया शोक।

0
817
Shahbuddin

बिहार के सीवान से RJD सांसद रहे बाहुबली नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन का शनिवार सुबह कोरोना से निधन हो गया। तिहाड़ जेल प्रशासन ने इसकी पुष्टि कर दी है। तिहाड़ के DG द्वारा मीडिया को भेजे गए संदेश में कहा गया है कि दिल्ली के DDU अस्पताल में भर्ती कैदी मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना से निधन हुआ है। इससे पहले न्यूज एजेंसी एएनआई ने यह जानकारी दी थी। हालांकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में जेल प्रशासन के हवाले से इसे एक अफवाह भी बताया जा रहा था। शहाबुद्दीन हत्या के मामले में तिहाड़ जेल में उम्र कैद की सजा काट रहे थे। फिलहाल उनका अस्पताल में इलाज चल रहा था। शुक्रवार मध्य रात्रि 3 बजकर 40 मिनट पर उन्होंने आखिरी सांस ली।

Hiring Medicine Adv
vHiring Medicine Adv

अपहरण और हत्या मामले में उम्र कैद की सजा हुई है
शहाबुद्दीन पर करीब 30 से ज्यादा केस दर्ज थे। 15 फरवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बिहार की सीवान जेल से तिहाड़ लाने का आदेश दिया था। तिहाड़ से पहले वे बिहार की भागलपुर और सीवान की जेल में भी लंबे समय तक सजा काट चुके थे। 2018 में जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर आए, लेकिन जमानत रद्द होने की वजह से उन्हें वापस जेल जाना पड़ा।

शहाबुद्दीन रहा हैं लालू यादव का करीबी 
90 के दशक में विधायक और सांसद रह चुके शहाबुद्दीन बिहार में बाहुबली के तौर पर जाने जाते थे। RJD प्रमुख लालू यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले शहाबुद्दीन कई बार विवादों में रहे। उनके ऊपर सीवान में चंदा बाबू के बेटों की हत्या का आरोप लगा और मामले में कोर्ट ने सजा भी सुनाई। पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में भी शहाबुद्दीन का नाम सामने आया। बाद में कोर्ट के निर्देश पर शाहबुद्दीन को तिहाड़ जेल भेजा गया था।

जब शहाबुद्दीन के घर से मिली एके-47 राइफल
दरअसल, 16 अगस्त 2004 को रंगदारी के लिए व्यवसायी चंद्रेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू के दो बेटों राजीव और सतीश की तेजाब से नहालकर हत्या कर दी गई थी। उस वक्त बिहार में आरजेडी की सरकार थी और शहाबुद्दीन आरजेडी के बाहुबली नेता थे। ऐसे में उस पर कार्रवाई को लेकर दोनों अफसरों सीके अनिल और एस रत्‍न संजय कटियार ने मिलकर पूरी प्लानिंग की।
बताया जा रहा कि इन्‍हीं दो जांबाज अधिकारियों ने भारी पुलिस बल के साथ शहाबुद्दीन के प्रतापपुर स्‍थित घर की घेराबंदी की थी। शहाबुद्दीन के समर्थक भी पहले से ही तैयार बैठे थे। उन्होंने पुलिस बल पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। हालांकि पुलिस टीम भी जवाबी कार्रवाई के लिए पूरी तैयारी के साथ गई थी और जबरदस्त तरीके से पलटवार किया। पुलिस का दावा है कि गोलीबारी थमने के बाद पुलिस जब शहाबुद्दीन के प्रतापपुर वाले घर के अंदर दाखिल हुई तो उसके होश उड़ गए। शहाबुद्दीन के घर में भारी मात्रा में पाकिस्तानी हथियार बरामद हुए थे।
शहाबुद्दीन के घर से पाकिस्तानी आर्डिनेंस कंपनी की मुहर लगी एके-47 राइफल भी बरामद हुई थी। कई ऐसे हथियार मिले जिसे केवल पाकिस्तानी सेना प्रयोग करती है। छापेमारी में इस बाहुबली नेता के घर से बहुमूल्य जेवरात और नकदी के अलावा जंगली जानवर जैसे शेर और हिरण की खाल भी बरामद हुई थी। इस कार्रवाई के बाद शहाबुद्दीन के किले में सेंध लगी थी।

शहाबुद्दीन के गुर्गों ने 3 पुलिस वालों की कर दी थी हत्या
इससे पहले साल 2001 में भी बिहार पुलिस शहाबुद्दीन को गिरफ्तार करने उनके प्रतापपुर वाले आवास पर छापेमारी करने पहुंची थी। इस दौरान शहाबुद्दीन के गुर्गों और पुलिस के बीच करीब 3 घंटे फायरिंग चली थी। इस दौरान 3 पुलिसकर्मी मारे गए थे। 2001 में ही पुलिस जब आरजेडी के स्थानीय अध्यक्ष मनोज कुमार पप्पू के खिलाफ एक वारंट लेकर पहुंची थी तो शहाबुद्दीन ने गिरफ्तारी करने आए पुलिस अधिकारी संजीव कुमार को थप्पड़ मार दिया था। शहाबुद्दीन के सहयोगियों ने पुलिस वालों की जमकर पिटाई कर दी थी। इसके बाद पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा था।

Adv - Munna Bhai
Adv- Munna Bhai

शहाबुद्दीन के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जाहिर की गहरी शोक
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के निधन पर गहरी शोक संवेदना जाहिर की है। नीतीश ने कहा कि शहाबुद्दीन से लंबे समय तक सिवान से सांसद व विधायक रहे। कोरोना से उनका निधन हो गया। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और स्वजनों को इस दुख की घड़ी को सहने करने की शक्ति दे। वहीं राजद विधायक तेजस्वी यादव ने कहा कि पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना संक्रमण के कारण असमय निधन की दुःखद काफी खबर पीड़ादायक है। ईश्वर उनको जन्नत में जगह दें। परिवार और शुभचिंतकों को संबल प्रदान करें। उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है। दुख की इस घड़ी में राजद परिवार शोक संतप्त परिजनों के साथ है।

राजद के संस्थापक सदस्यों में थे शहाबुद्दीनः राजद
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव, राजयसभा सांसद मीसा भारती ने पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के असामयिक निधन पर गहरा शोक एवं दुख व्यक्त किया है। कहा कि उनके निधन से पूरा राजद परिवार शोकाकुल एवं मर्माहत है। शहाबुद्दीन राजद के संस्थापक सदस्यों में थे। उनकी गहरी पैठ सामाजिक एवं राजनीतिक क्षेत्र में थी। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे। वहीं राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, पूर्व मंत्री रामचंद्र पूर्वे, अब्दुल बारी सिद्दीकी, अवध बिहारी चौधरी, शिवचंद्र राम, राजद के प्रधान महा सचिव एवं पूर्व मंत्री श्री श्याम रजक, विधायक अख्तर इस्लाम शाहीन, पूर्व विधायक डॉक्टर दाऊद अली सहित अनेकों राजद विधायकों ने मोहम्मद शहाबुद्दीन के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।
adv puja