कोरोना की तीसरी लहर से जंग के लिए बड़ी तैयारी, बच्चों के लिए तैयार किए गए पटना के सभी सरकारी अस्पताल

0
1009

पटना: कोरोना की तीसरी लहर के देश में 6-8 हफ्ते में आने की हेल्थ एक्सपर्ट की भविष्यवाणी के बाद बिहार सरकार अलर्ट मोड में है। बच्चों पर इसके असर की आशंका को देखते हुए पटना के सरकारी अस्पतालों में युद्धस्तर पर तैयारी चल रही है। इसके लिए राज्य के सरकारी अस्पतालों में खास तैयारी की गई है।

‘लोग फिर से हो रहे लापरवाह’
पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (PMCH) में बाल रोग विभाग के पूर्व प्रमुख डॉ निगम प्रकाश नारायण ने कहा कि तीसरी लहर के जल्दी आने की भविष्यवाणी प्रतिबंधों में ढील के बाद नागरिकों के गैर-जिम्मेदार व्यवहार को लेकर जताई गई थी।

MehmaNawazi Adv
MehmaNawazi

डॉक्टर निगम के मुताबिक ‘लोगों ने कोरोना से जुड़े सुरक्षा के नियमों का पालन करना फिर से बंद कर दिया, इससे कोरोना की तीसरी लहर को न्योता मिल रहा है। कोरोना की पहली लहर में देश में प्रभावित होने वाले बच्चों का प्रतिशत लगभग 3.8% था और दूसरी लहर में यह आंकड़ा बढ़कर 12% हो गया। इसी को देखते हुए आशंका है कि तीसरी लहर में बच्चे ज्यादा प्रभावित होंगे। हालांकि, तीसरी लहर की गंभीरता भयंकर नहीं होगी क्योंकि तब तक अधिकतम लोगों में कोरोना की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी।’

पटना एम्स में बच्चों के लिए 60 बेड का वार्ड
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, पटना (पटना एम्स) ने पहले ही एक से 17 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए बाल रोग विभाग में 60-बेड वाला कोविड वार्ड तैयार कर लिया है। इसमें 20 बेड का पीआईसीयू (पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट) और 10 बेड की पीडियाट्रिक सर्जरी यूनिट भी तैयार की गई है। साथ ही 10 एनआईसीयू (नवजात गहन चिकित्सा इकाई) बेड तैयार किए गए हैं। पटना एम्स में कोविड -19 के नोडल प्रभारी डॉ संजीव कुमार ने कहा कि यदि आवश्यक हुआ तो अस्पताल बिस्तरों की संख्या में वृद्धि करेगा।

Crystal Banquet Adv

IGIMS में बच्चों के लिए 40 बेड का वार्ड
इधर आईजीआईएमएस-पटना (IGIMS) ने बाल रोग विभाग में 40 बिस्तरों वाला कोविड वार्ड बनाकर महामारी की संभावित तीसरी लहर के लिए खुद को तैयार कर लिया है। IGIMS के अधीक्षक मनीष मंडल के मुताबिक ‘हम बच्चों की जान बचाने के लिए तैयार हैं। अस्पताल में छह वेंटिलेटर से लैस बच्चों के लिए 40 बेड का वार्ड है। आठ बेड का पीआईसीयू और चार बेड का एनआईसीयू भी तैयार किया जा चुका है।’

महावीर मंदिर ट्रस्ट के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने कहा कि महावीर वात्सल्य अस्पताल में जल्द ही बच्चों के लिए 60 बेड का कोविड वार्ड बनाया जाएगा। किशोर कुणाल के मुताबिक ‘हम सभी सुविधाओं के साथ बच्चों के लिए कोविड वार्ड के लिए एक अलग फ्लोर ही बना रहे हैं जो अगस्त तक पूरी तरह से तैयार रहेगा।’

NMCH में भी बच्चों के लिए अलग वार्ड
एनएमसीएच में नवनिर्मित मदर-चाइल्ड हॉस्पिटल भवन में 36 बेड का कोविड वार्ड बनाया गया है। अस्पताल में एनआईसीयू और पीआईसीयू सहित कोविड रोगियों के लिए 50-बेड का आईसीयू सुविधा भी है।

Adv - Munna Bhai
Adv- Munna Bhai

एनएमसीएचमें कोविड -19 के नोडल अधिकारी डॉ मुकुल कुमार सिंह ने कहा कि अस्पताल ने तीसरी लहर के लिए पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने कहा कि ‘अस्पताल का 3,000 क्यूबिक लीटर प्रतिदिन क्षमता का लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट अगले 14-15 दिनों में तैयार हो जाएगा।’