बसंत पंचमी 2021: 16 फरवरी को है सरस्वती पूजा, शिक्षा में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए करें ये उपाय

0
693

पंचांग के अनुसार माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी की तिथि को बसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है। 16 फरवरी 2021 को पंचमी की तिथि है। यह पर्व जीवन में ज्ञान और शिक्षा के महत्व को भी दर्शाता है।

Adv - Jaipuria School

जीवन में ज्ञान के बिना सफलता की कल्पना करना मुश्किल है।वेद और शास्त्रों में भी ज्ञान के महत्व के बारे में विस्तार से बताया गया है। ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है. वर्तमान समय की बात करें तो शिक्षा से ही सफलता प्राप्त होती है। बसंत पंचमी का दिन ज्ञान के महत्व को जानने का भी पर्व है. बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्तम माना गया है। इसलिए इस दिन छोटे बच्चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है। इसके साथ ही इस दिन अबूझ मुहूर्त का निर्माण होता है। बसंत पंचमी के दिन बिना मुहूर्त को देखे शुभ और मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं।

Vespa -Adv
Vespa -Adv

देव गुरू बृहस्पति का होगा उदय ज्योतिष शास्त्र में गुरू ग्रह को भी ज्ञान का कारक माना गया है। गुरू व्यक्ति को शिक्षा के क्षेत्र में सफलता प्रदान कराता है इसके साथ ही जीवन में उच्च पद और विभिन्न स्त्रोतों से धन लाभ भी कराता है। बसंत पंचमी के दिन ही गुरू अस्त से उदय हो रहे हैं। जो एक शुभ योग का निर्माण कर रहा है। जिस कारण बसंत पंचमी का महत्व और भी बढ़ जाता है।

Srijan Adv

सरस्वती पूजा से दूर होती हैं शिक्षा में आनी बाधाएं बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि पूर्वक पूजा करनी चाहिए।

इन मंत्रों का जाप करें ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महासरस्वती देव्यै नम:. ॐ ह्रीं ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नम:.

Aanchal Adv
Aanchal Adv

सरस्वती पूजा शुभ मुहूर्त बसंत पंचमी का पर्व 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट से आरंभ होगा जो 17 फरवरी को पंचमी की तिथि के साथ ही समाप्त होगा। इस दिन मां सरस्वती की पूजा विधि पूर्वक करनी चाहिए और मां को वाद्य यंत्र और पुस्तके आदि अर्पित करनी चाहिए।

Digital Marketing Adv
Digital Marketing Adv
Adv cure pathlab
Adv cure pathlab

adv puja