साईकल से सम्पूर्ण भारत का भ्रमण करने वाले रतन संजन को वैशाली एसएसपी ने किया सम्मानित।

0
778

मात्र पांच माह में साइकिल से संपूर्ण भारत का भ्रमण करने वाले रतन रंजन को वैशाली एसपी राकेश कुमार ने सोमवार को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। वैशाली जिले के बेलवर गांव निवासी उपेंद्र ¨सह का पुत्र रतन रंजन ने विगत 4 अगस्त 2013 से 3 जनवरी 2014 तक यानी पांच माह में भारत वर्ष के सभी राज्यों का साइकिल से भ्रमण करने का साहसिक कार्य किया है।

Hiring Medicine Adv
vHiring Medicine Adv

हरियाली की चाह में वैरागी बना रतन
रतन रंजन ने साइकिल से भारत भ्रमण कर पर्यावरण की अलख जगाने का काम किया है। पर्यावरण बचाने में अपने छोटे से योगदान का लक्ष्य लेकर रतन ने पूरे देश में साइकिल से भ्रमण कर लोगों का जागरूक करने का काम किया। साथ ही हर प्रदेश में कम से कम एक पौधा लगाने का काम किया है। हरियाली की चाह में रतन ने विगत पांच माह तक घर-परिवार को छोड़कर वैरागी बन गया था। रतन ने बताया कि उनके दादा स्व. योगेंद्र प्रसाद ¨सह ने अपने बगीचे में बड़ी संख्या में पेड़-पौधे लगाए थे। लेकिन अचानक से सूखने लगा। इसे बचाने के लिए जब रतन ने कृषि वैज्ञानिकों से संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि यह पर्यावरण के प्रदूषित होने का परिणाम है। इसके बाद उसने सोचा कि अब पर्यावरण बचाने के लिए पूरे देश के लोगों को जगाना होगा। जब पर्यावरण बचाने की बात उठी तो पेट्रोल का उपयोग तो किया नहीं जा सकता, इसके बाद उसने साइकिल से ही देश भ्रमण करने का फैसला लिया। भ्रमण में उनके पिता और समाज के लोगों ने उनकी भरपूर मदद करने का काम किया है। इसके अलावा भ्रमण के दौरान वे जहां भी गए, वहां के लोगों एवं प्रशासन ने भी उनकी भरपूर मदद किया।

153 दिनों में तय की 49 हजार किलोमीटर की यात्रा
मिल चुके हैं कई अवॉर्ड
– रतन की इस उपलब्धि के लिए उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज किया गया है।
– उन्हें फास्टेस्ट इंडिया टूर ऑन साइकिल का अवॉर्ड भी मिल चुका है।
– दिल्ली में आयोजित 14वें वर्ल्ड ह्यूमन राइट्स कॉन्फ्रेंस के कई देशों के एम्बेसडर्स की मौजदूगी में उन्हें सम्मानित किया गया था।
– बिहार स्थापना दिवस समारोह में भी रतन को समानित किया जा चुका है।
– अब उन्होंने दावा किया है कि उनके इस काम के लिए उनका जल्द ही गिनीज बुक ऑफ द वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा।
पर्यावरण संरक्षण की चिंता ने रतन रंजन को साइकिल मैन बना दिया। पर्यावरण संरक्षण के संदेश के साथ उन्होंने साइकिल से 49000 किमी का सफर तय किया। 153 दिनों में इतने किलोमीटर साइकिल चलाकर वे लिम्का बुक ऑफ रिका‌र्ड्स में अपना नाम दर्ज करा चुके हैं। इसके साथ ही रतन का नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड, यूनिक व‌र्ल्ड रिकार्ड, गोल्डेन बुक ऑफ रिकार्ड, व‌र्ल्ड रिकार्ड यूनिवर्सिटी, इंडियन यंग अचीवमेंट बुक आदि में भी शामिल है।

रतन के पिता उपेंद्र सिंह वैशाली जिले के बेलवर में किसान हैं। ‘साइकिल चलाओ, पर्यावरण बचाओ’ मुहिम के तहत रतन ने भारत में सबसे अधिक साइकिल से भ्रमण किया। चार अगस्त 2013 को उन्होंने बेलवर सती स्थान से अपनी यात्रा शुरू की। तीन जनवरी 2014 को उनकी यात्रा संपन्न हुई। पांच माह से भी कम समय में देश के सभी राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों का भ्रमण किया। लोगों को पर्यावरण संरक्षण का पैगाम दिया।
रतन रंजन एक बार फिर पर्यावरण संरक्षण को लेकर पौधरोपण अभियान lockdwon के कारण धीमी गति से चल रही है जल्द ही lockdwon के बाद पर हैं। अभियान की शुरुआत की। साइकिल से यूपी के कई जिलों में पौधरोपण करने के बाद वे बिहारऔर बिहार से जल्द ही मध्यप्रदेश के बक्सवाहा में हीरे की खनन को लेकर 2 लाख पेड़ काटे जायेंगे इसके लिए save kakswaha साईकिल यात्रा बिहार से मध्यप्रदेश के लिए सुरु करेंगे। अभियान की शुरुआत करेंगे।