सुशांत सिंह राजपूत मामले में अब तक का सबसे बड़ा खुलासा, नही हुई सुशांत की हत्या; जाने पूरा सच

0
1274

AIIMS की रिपोर्ट पर बोली मुंबई पुलिस- आखिर हमारी बात ही सच साबित हुई न।

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुंबई पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह ने शनिवार को कहा कि ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) के बयान के साथ हमारी जांच सही साबित हुई। उन्होंने पीटीआई से कहा कि कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ के लिए जांच के बारे में कुछ भी जाने बिना मुंबई पुलिस को निशाना बनाया।

दरअसल, एम्स मेडिकल बोर्ड ने शनिवार को कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत आत्महत्या से हुई और यह हत्या नहीं थी। इस खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए, सिंह ने कहा कि शहर की पुलिस की जांच पेशेवर थी, और शहर के कूपर अस्पताल में डॉक्टरों ने शव परीक्षण किया था और उन्होंने अपना काम पूरी तरह से किया था।

पुलिस आयुक्त ने कहा, “हम सभी एम्स के इन निष्कर्षों से सहमत हैं।” सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राजपूत मामले में बिहार पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के स्थानांतरण को बरकरार रखा था, न कि मुंबई पुलिस की जांच को। उन्होंने कहा कि “अदालत ने हमारी जांच में कोई गलती नहीं पाई”।सिंह ने आगे कहा कि शहर की पुलिस ने शीर्ष अदालत में जांच रिपोर्ट सील कर दी थी और इसे केवल छह व्यक्तियों द्वारा देखा गया था। इसमें जांच अधिकारी, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, पुलिस उपायुक्त, पुलिस आयुक्त, राज्य  महाधिवक्ता और न्यायाधीश शामिल थे। उन्होंने कहा कि “हमारी जाँच के बारे में कुछ भी जाने और हमारी रिपोर्ट देखे बिना कुछ लोगों ने हमारी जाँच की आलोचना की”।

Vespa -Adv
Vespa -Adv

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या थी या आत्महत्या, पिछले कई महीनों से यह सवाल अबूझ पहेली बनी हुई है। मगर अब एम्स पैनल ने इस बात का खुलासा किया कि सुशांत सिंह की मौत आत्महत्या थी, हत्या नहीं। एम्स पैनल का नेतृत्व करने वाले डॉ सुधीर गुप्ता ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की हत्या नहीं की गई थी, बल्कि यह आत्महत्या का केस है। सुशांत सिंह राजपूत के पोस्टमार्टम रिपोर्ट की जांच करने के बाद एम्स की टीम इस निष्कर्ष पर पहुंची है।

इंडिया टूडे के मुताबिक, डॉक्टरों के पैनल ने सुशांत सिंह राजूपत की मौत मामले में मर्डर की बात को पूरी तरह से खारिज कर दिया। डॉक्टर ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत आत्महत्या का मामला है। बता दें कि एम्स के डॉक्टरों ने 29 सितंबर को अपनी जांच रिपोर्ट सीबीआई को सौंपी थी। एम्स के डॉक्टरों की यह टीम अपना काम कर चुकी है और अब सीबीआई रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद किसी नतीजे पर पहुंचेगी।